ALL देश-दुनिया मध्य प्रदेश सफल किसान कंपनी समाचार ग्रामीण उद्द्योग साक्षात्कार बागवानी औषधीय फसलें पशुपालन
खेती से किसान अपने बच्चों को स्वावलंबी बना सकते हैं .....खेती में भी तकनीक का उपयोग जरूरी --राज्यपाल
November 12, 2019 • Ramswaroop Mantri
कृषि में आधुनिक तकनीक से नवाचार करके किसान अपनी आय बढ़ाएं: राज्यपाल
जयपुर । राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा है कि कृषि में नवाचार करके और आधुनिक तकनीक को अपनाकर किसान अपनी आय को बढ़ा सकते हैं। उन्होंने कहा कि खेती के जरिए ही किसान अपने बच्चों को स्वावलम्बी भी बना सकते हैं। इसके लिए कृषि वैज्ञानिको को किसानों का सहयोगी बनना होगा।
राज्यपाल मिश्र सोमवार को जोबनेर में श्री कर्ण नरेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय परिसर में आयोजित उद्यमिता विकास एवं किसानों के सशक्तिकरण के लिए जैविक खाद उत्पादन एवं बायोगैस तकनीक में नवीनतम प्रगति के लिए 21 दिवसीय शीतकालीन प्रशिक्षण कार्यक्रम के शुभारम्भ सामारोह को सम्बोधित कर रहे थे। 
इस अवसर पर राज्यपाल ने विश्वविद्यालय परिसर में स्थित श्री कर्ण नरेन्द्र सिंह की मूर्ति पर माल्यार्पण कर श्रंद्धाजलि दी। राज्यपाल ने नवनिर्मित सौर ऊर्जा संयंत्र और वर्षा जल संचयन संरचना का शुभारम्भ किया।
राज्यपाल ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था कृषि पर आधारित है। उन्होंने कहा कि अन्न उत्पादन ही खेती नहीं है। अब खेती के माध्यम से अनेक कुटीर उद्योग-धन्धें चलाये जा सकते हैं और उन्हे बाजार में विभिन्न प्रकार से पेश कर किसान अपनी आजीविका को बढ़ा सकते हैं। राज्यपाल ने कहा कि आटा, आलू की चिप्स, टमाटर सॉस, बेकरी आदि ऐसे अनेक उद्योग-धन्धें है, जिनका लाभ किसान आसानी से उठा सकते हैं। राज्यपाल ने चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि इन उद्योग- धन्धों को किसानों द्वारा नहीं किए जाने से इनका लाभ बड़ी-बड़ी कम्पनियां उठा रही है। कृषि वैज्ञानिकों को किसानों को कुटीर उद्योग-धन्धों के लिए प्रेरित करना होगा।
राज्यपाल ने कहा कि पानी का कम से कम उपयोग किया जाए और अधिक से अधिक जल का संरक्षण किया जावे। उन्होंने कहा कि इससे भू-जल बढे़गा और पैदावार भी अधिक हो सकेगी। राज्यपाल ने कृषि वैज्ञानिकों का आव्हान किया कि वे अनुसंधान करें कि सूखी मिट्टी से पैदावार कैसे प्राप्त की जा सकती है। मिट्टी की उर्वरा शक्ति को बढ़ाने और पशुपालन की दिशा में किसानों को जोड़ने के तरीके भी कृषि वैज्ञानिको को ढूंढने होगें। राज्यपाल ने कहा कि कृषि वैज्ञानिकों को ग्रे वाटर को खेती में उपयोग के लिए शोध करने की आवश्यकता है।
राज्यपाल ने कहा कि कृषि में गुणवत्ता पर जोर देना होगा और व्यावहारिक दृष्टिकोण से कार्य करना होगा। उद्यमिता के माध्यम से किसानों के सशक्तिकरण के लिए कृषको को जागरूक बनाना होगा। 
राज्यपाल ने विश्वविद्यालय प्रांगण को देखा। राज्यपाल ने गिर गाय संवर्धन एवं संरक्षण केन्द्र को भी देखा, जहा 104 गिर गाय प्रजाति के गौवंश का संधारण किया जा रहा है। राज्यपाल ने वर्षा जल संरक्षण संरचना का अवलोकन किया, जिसकी जल संरक्षण क्षमता 4 करोड़ लीटर है। यहां 50 करोड लीटर की जल संचयन इकाइयों का विकास किया जा रहा है। विश्वविद्यालय परिसर को ग्रीन कैम्पस बनाने के लिए 45 किलोवाट क्षमता का ग्रिड फोटोवाॅल्टिक पावर प्लान्ट को कुलाधिपति मि़श्र ने सराहा। राज्यपाल ने विश्वविद्यालय के पुस्तकालय का भी अवलोकन किया। इस पुस्तकालय में आर एफ आई डी सिस्टम विकसित किया गया है, जहां दस लाख किताबों को डिजिटल मोड पर उपलब्ध कराया गया है।
भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के कृषि शिक्षा के सहायक महानिदेशक एम.के. अग्निहोत्री ने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से कृषि वैज्ञानिको के साथ छात्र-छात्राएं भी किसानों और कृषि की विभिन्न समस्याओं को समझ सकते हैं।