ALL देश-दुनिया मध्य प्रदेश सफल किसान कंपनी समाचार ग्रामीण उद्द्योग साक्षात्कार बागवानी औषधीय फसलें पशुपालन
तुर्की के कट्टरपंथी सरकार के खिलाफ 238 दिन की भूख हड़ताल के बाद इंब्रु का निधन
September 8, 2020 • AGRO INDIA (Ramswaroop Mantri) • देश-दुनिया

 तुर्की में कट्टरपंथ के खिलाफ 238 दिन का लंबा संघर्ष

 

तुर्की की रेवोल्यूशनरी पीपल फ्रंट की 42 वर्षीय सदस्या इब्रू तिमतिक (Ebru Timtik) का 238 दिन की भूख हड़ताल के बाद 27 अगस्त को निधन हो गया। इब्रू पेशे से वकील, सामाजिक एवं मानवाधिकार के लिये आवाज़ उठाने के लिये जानी जाती थी।

मार्च 2019 में, उन्हें रिवोल्यूशनरी पीपुल्स लिबरेशन पार्टी के साथ एसोसिएशन का दोषी बताया गया और 13 साल और 6 महीने जेल की सजा सुनाई गई थी। भारत की तरह वहाँ की कट्टरपंथी सत्ता भी सच बोलने वालों को दबाने के लिये किसी हद तक भी गिर जाती है। 2 जनवरी, 2020 को, टिमटिक ने निष्पक्ष जाँच के अपने अधिकार के लिए लड़ने के लिए भूख-हड़ताल शुरू की थी।

हेगिया सोफ़िया संग्रहालय को मस्जिद में बदल देने पर ख़ुशियाँ मनाने वाले मुस्लिम भाइयों, आपकी भी आँखें भी खुल जानी चाहिये कि मुस्लिम कट्टरपंथी सोच रखने वाले तुर्की के तानाशाह एर्डोगन ने भी मोदी की तरह अनेकों प्रगतिशील, धर्म निरपेक्ष, जन पक्षधर राजनीति के पैरोकारों को जेल में ठूँसा हुआ है। कट्टरपंथी सब एक जैसे होते हैं, चाहे उनका मजहब, लिबास, भाषा कुछ भी हो, सभी हिटलर के राहगीर होते हैं।

एक बेहतर समाज बनाने के सपने संजोये हुए, जनता के हक़ों के लिये लड़ते हुए शहीद हुई क्रांतिकारी इब्रू तिमतिक को नम आँखों से लाल सलाम✊✊